Friday, 8 February 2013

Wild flowers - Fiori selvatici - जँगली फ़ूल

Wild plants, south africa - S. Deepak, 2012
Wild plants, south africa - S. Deepak, 2012
Wild plants, south africa - S. Deepak, 2012

South Africa: I knew the saying "Beauty lies in the eyes of the beholder", but I have really understood it only after I developed my passion for photography. Today's images are of plants growing on the south-west coast of South Africa. You may not wish to have them in your home or your courtyard. However, if you just stop for a moment and look at them properly, you see how beautiful they really are!

दक्षिण अफ्रीकाः "सुन्दरता देखने वाले की नज़र में होती है" यह बात सुनी तो बहुत थी पर सही समझ फोटीग्राफ़ी का शौक होने के बाद ही आयी है. आज की तस्वीरों का विषय है दक्षिण अफ्रीका के दक्षिण-पश्चिमी समुद्र तट के पास उगने वाले पौधों के फ़ूल. जँगली हैं, शायद आप इन्हें अपने घर आँगन में न लगाना चाहें, पर एक बार रुक कर ठीक से देखिये, कितने सुन्दर हैं!

Sud Africa: Conoscevo il detto "la bellezza sta negli occhi di chi guarda", ma l'ho capito bene solo dopo che ho sviluppato la mia passione per la fotografia. Le immagini di oggi hanno le piante che crescono sulla costa sud-occidentale del Sud Africa. Forse non le vorresti in casa o cortile. Ma se ti fermi e le guardi bene per un attimo, capisci quanto sono belle!

***

8 comments:

  1. जंगल के फूल भी उसी की तरह खूबसूरत।

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद दिनेश जी :)

      Delete
  2. तस्वीरें सुन्दर है.

    फूलों का चुनाव, पालतु जानवरों की तरह है छंटते हुए उपयोगीता के आधार पर हुआ है. अतः जिन्हें हम घरों में लगाते है वे कोई अलग दुनिया से नहीं आए है, किसी न किसी कारण से छंट कर आए है. सुन्दरता, सरलता, स्वास्थयता, उपयोगिता के आधार पर. शेष का प्रकृति में जरूर अस्तित्व है, हमारे लिए भले ही ये उतने उपयोगी न हो. तो इन फूलों के साथ अन्याय नहीं हुआ है :)

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद संजय. यह तो सच है कि घर में लगाने वाले पेड़ पौधे सदियों के मानव चुनाव का नतीजा है, उनमें उपयोगिता या सुन्दरता के गुण हैं.
      मैं न्याय अन्याय की बात नहीं कर रहा, बस इतना कह रहा हूँ कि जीवन की भागदोड़ में कितना कुछ हमारे आसपास अनदेखा ही छूट जाता है :)

      Delete
  3. आपकी बात से तो सहमत हूँ ही, कुछ अपनी ओर से भी जोड़ दिया

    ReplyDelete

Daily 3 new images from around the world with a brief reflection in English, Hindi and Italian - Thanks in advance for your comments - Grazie in anticipo per i vostri commenti - आप की टिप्पणियों के लिए धन्यवाद

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

Followers