Friday, 5 August 2011

Boys - Ragazzi - लड़के

Boys, Amingaon, Assam, India - images by S. Deepak
Boys, Amingaon, Assam, India - images by S. Deepak
Boys, Amingaon, Assam, India - images by S. Deepak

Assam, India: In Amingaon on the banks of Brahmputra river, not very far from Guwahati, immigrants from villages had set up a small slum. Most men there worked in a chemical factory. Today's images have innocent faces of boys playing in the streets of the slum.

असम, भारतः ब्रह्मपुत्र नदी के किनारे, गुवाहाटी से थोड़ी दूर बसे अमीनगाँव में असम के गाँवों से आ कर बसने वाले लोगों ने छोटी सी झोपड़पट्टी बना ली थी. अधिकतर लोग वहीं की एक रसायनिक मिल में काम करते थे. आज की तस्वीरों में झोपड़पट्टी की कच्ची गलियों में खेलने वाले लड़कों के भोले चेहरे.

Assam, India: A Amingaon sulle vie del fiume Brahmaputra, non molto lontano da Guwahati, immigrati dai villaggi avevano costruito una piccola baraccopoli. Maggior parte degli uomini qui lavorano in una fabbrica di prodotti chimici. Le foto di oggi hanno le facce innocenti dei ragazzi che giocavano nelle stradine della baraccopoli.

***

11 comments:

  1. चहरे के भाव तो देखिये...

    अच्छे व्यक्ति-चित्र.

    ReplyDelete
  2. Ek tha bachapan,chota sa, nanha sa tha bachpan.

    ReplyDelete
  3. loved the pics, loved the innocence in the eyes of the kids, good capture

    ReplyDelete
  4. तुम नही मसीहा से कम भाई

    आशाओं की उम्मीदों की
    किरण एक तुम नई जगाते
    दिन-प्रतिदिन ले सपने आते
    तुम नही मसीहा से कम भाई

    केबीसी के मंच से तुमने
    सदा नई एक राह दिखाई
    लगता है कुछ ऐसा हमको
    तुम नही मसीहा से कम भाई

    टूट गये है सपने जिनके
    छूट गये हैं अपने जिनके
    तुमने उनको आस दिलाई
    तुम नही मसीहा से कम भाई

    सारे दुख जग के हर लोगे
    खुशियों से दामन भर दोगे
    नामुमकिन को मुमकिन करते
    तुम नही मसीहा से कम भाई

    अभय शर्मा 5 अक्टूबर 2011 (प्रकाशित 6 अक्टूबर 2011)

    Dear Sunil please accept this poem as a token of small gift for our first meeting..
    I also have a google site http://abhayasharma.net

    ReplyDelete
    Replies
    1. कविता की भेंट के लिए सविनय धन्यवाद अभय जी. मैंने आप का बेवपृष्ठ देखा और आप की कविताएँ भी पढ़ीं. बस वहाँ टिप्पणी कैसे दी जाये यह नहीं समझ पाया. बधाई.

      Delete

Daily 3 new images from around the world with a brief reflection in English, Hindi and Italian - Thanks in advance for your comments - Grazie in anticipo per i vostri commenti - आप की टिप्पणियों के लिए धन्यवाद

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

Followers