Wednesday, 10 April 2013

Chocolate sculptures - Sculture alla cioccolata - चाकलेट कला

Chocolate Noah's ark, Castelfranco Veneto, Italy - S. Deepak, 2013
Chocolate Noah's ark, Castelfranco Veneto, Italy - S. Deepak, 2013
Chocolate church choir, Castelfranco Veneto, Italy - S. Deepak, 2013

Castelfranco Veneto (TV), Italy: Do you feel that breaking and eating pieces of chocolate sculptures, made with so much effort, should be considered as a crime against art?

कास्तेलफ्राँको वेनेतो, इटलीः क्या आप यह मानते हैं कि इतनी मेहनत से बनायी चाकलेट की कलाकृतियों को तोड़ कर उसके टुकड़े खाना, कला के प्रति अपराध माना जाना चाहिये?

Castelfranco Veneto (TV), Italia: Non pensate che rompere e mangiare pezzi di sculture di cioccolata, costruite con tanta fatica, dovrebbe essere considerato un crimine contro l'arte?

***

14 comments:

  1. Brown and Yummy . Lovely delicious pictures .

    Travel India

    ReplyDelete
  2. यम यम...
    मुंह में पानी आ गया. अपराध काहे का? सुंदर बनाया ही इसलिए जाता है कि खाने का मजा कई गुणा ज्यादा हो जाए!

    अलबत्ता गायकों के सिर टुकड़े कर खाना.... :(

    ReplyDelete
    Replies
    1. रवि यह बात तो है, अगर लोग चाकलेट की कला को सम्भाल कर रखेगें और खायेंगे नहीं तो उसे बनाने वालों की बिक्री रुक जायेगी :))

      Delete
  3. अब चाकलेट है तो खाना तो पड़ेगा..
    पर हैं बड़े सुन्दर.. पर क्या करें..
    "जी ललचाए..रहा न जाए.."

    ReplyDelete
    Replies
    1. और बनाने वालों ने खाने के लिए ही तो बनाये हैं, नहीं खायेंगे तो चीटियाँ न चढ़ जायें :))

      Delete
  4. ओह, इतने सुन्दर चाकलेट.

    ReplyDelete
  5. Almost a crime :)
    I don't think I'd be able destroy one of those chocolatey structures.

    ReplyDelete
    Replies
    1. Almost crime is a good way to think about it. In any case, "feeling guilty" increases the fun of eating chocolate :)

      Thanks D.

      Delete
  6. कला अभिव्यक्त होने के लिए तत्पर रहती है इसलिए किसी भी माध्यम से अभिव्यक्त होती है. कलाकार को मजबूर करती है. और उसे सृजन का सुख देती है.

    फूल-पत्ते या अन्य चीजें बनी हो तो खाया जा सकता है. जीवीत वस्तु की नकल जरा मुश्किल से खाई जा सकती है.

    ReplyDelete
    Replies
    1. संजय यह तो कुछ भी नहीं, वहाँ चाकलेट के पुरुष और नारी अंग भी थे और उन्हें दिखा दिखा कर खाने वाले भी कम नहीं दुनिया में! :))

      Delete
  7. Sigh ! Now what I wouldn't do to get my hands on the chocolate choir :-)

    ReplyDelete
    Replies
    1. For eating, I don't think that the scultpures matter so much, but as a decorative piece as a temptation, it would be perfect :)

      Delete

Daily 3 new images from around the world with a brief reflection in English, Hindi and Italian - Thanks in advance for your comments - Grazie in anticipo per i vostri commenti - आप की टिप्पणियों के लिए धन्यवाद

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

Followers