Sunday, 23 June 2013

Temples and life - Templi e vita - मन्दिर व जीवन

Temples, Durbar square, Kathmandu, Nepal - images by Sunil Deepak, 2006
Temples, Durbar square, Kathmandu, Nepal - images by Sunil Deepak, 2006
Temples, Durbar square, Kathmandu, Nepal - images by Sunil Deepak, 2006

Kathmandu, Nepal: In the news about the destruction in Uttarakhand (India), people talk of unbridled greed and exploitation of nature in the name of development. In a few days, people will forget all this and the destruction and corruption will continue unabated. The faith of millions remains restricted to the prayers in the temples or encouraging superstitions, casteism and conservative ideas. When and from where will come those who will link religion to modernity, including to the ideas of nature conservation and human rights? Today's images have temples from Kathmandu.

काठमाँडू, नेपालः उत्तराखँड में हुए विनाश के समाचारों में विकास के नाम पर मानव के सीमाहीन लालच और प्रकृति के विचारहीन शोषण की बातें हो रही हैं. लेकिन कुछ ही दिनों में लोग इन्हें भूल जायेंगे और लूटों तथा भ्रष्ठाचार के सिलसिले वैसे ही चलते रहेंगे. करोड़ों की धर्मनिष्ठा केवल मन्दिर में पूजा तक ही सीमित रह जाती है, या धर्म के नाम पर अँधविश्वास, जातिवाद और दकियानूसी बातों को बढ़ावा देती है. धर्म को नये आधुनिक राह दिखाने वाले जिसमें प्रकृति संरक्षण और मानव अधिकारों से जोड़ने वाले संदेश हों, कब और कहाँ से आयेंगे? आज की तस्वीरों में काठमाँडू के मन्दिर.

Kathmandu, Nepal: Nelle notizie sulla destruzione nello stato di Uttarakhand (India), le persone parlano di avidità e sfruttamento della natura senza limiti nel nome dello sviluppo. Fra qualche giorno, le persone lo dimenticheranno e la rapina e la distruzione continueranno come prima. La fede di milioni di persone resta confinato alle preghiere nel tempio e sostegno alle superstizioni, questioni di caste e idee conservative. Quando e da dove verranno quelli che collegheranno la religione alla modernità, compreso alle idee della salvaguardia della natura e dei diritti umani? Le immagini di oggi sono dei tempi di Kathmandu.

***

25 comments:

  1. you are right .
    धर्म की राजनीति चमकाने का वक्त नहीं है ये !

    हर बात को धर्म से क्यों जोड़ देते हैं ZEAL जैसे लोग?

    ReplyDelete
    Replies
    1. शिखा जी, आप ने ठीक लिखा है. मैं तो यह भी सोचता हूँ कि हिन्दु धर्म के अनुसार धरती के कण कण में वही भगवान हैं, वही शक्ति माँ है, तो मूर्ति हटने से कहर गिरेगा जैसी बातें करना अन्धविश्वास ही नहीं, धर्म के भी विरुद्ध नहीं है क्या? जो लोग इस तरह की बातें करते हैं वह ऊपर से धर्म बचाओ की बात करते हैं, पर सचमुच उनका ध्येय लोगों को धर्मों, जातियो में बाँट कर उसका राजनीतिक फायदा उठाना है.

      Delete
  2. Anche il mio Nepal ha subito devastazioni nella zona sud occidentale. Che pena! Soono già lì con la mente anche se partirò a breve

    ReplyDelete
    Replies
    1. Mi dispiace, non avevo sentito le notizie sulla situazione in Nepal.

      Delete
  3. indeed Sir.. life will come back to normal even after these indications of disaster due to pushing Nature to its limit !!

    The Pictures of Kathmandu Temples are eye-catchy with their typical style similar to Pagodas

    ReplyDelete
  4. नमस्कार
    आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल सोमवार (24-06-2013) के :चर्चा मंच 1285 पर ,अपनी प्रतिक्रिया के लिए पधारें

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद सरिता जी

      Delete
  5. The temple in Kathmandu are unique. Perfectly captured Sir.

    ReplyDelete
  6. मंदिर निर्माण की ये शैली कभी भारत में नहीं दिखीं.. क्या ये विशुद्ध नेपाली शैली है, या...??

    ReplyDelete
    Replies
    1. मैं स्वयं तो कभी उत्तरखँड या गढ़वाल की ओर नहीं गया, पर शायद वहाँ भी इससे मिलती जुलती निर्माण शैली है?

      Delete
    2. प्रशांत, उत्तराखँड में, गढ़वाल में,मन्दिर क्या कुछ इससे मिलते जुलते नहीं होते? मैं वहाँ कभी गया नहीं हूँ! :)

      Delete
    3. शायद आप ठीक कह रहे हैं.. पर विडंबना ये है कि मैं भी कभी उत्तराखंड नहीं गया.. और अब तो कुछ सालों तक जाउँगा भी नहीं...

      Delete
    4. इतनी तबाही के बाद, उधर जाने में डर लगना तो स्वाभाविक है, पर शायद लोग दो तीन साल में सब भूल जायेंगे!

      Delete
  7. Awesome post and great photos.

    ReplyDelete
  8. लेकिन कुछ ही दिनों में लोग इन्हें भूल जायेंगे और लूटों तथा भ्रष्ठाचार के सिलसिले वैसे ही चलते रहेंगे. करोड़ों की धर्मनिष्ठा केवल मन्दिर में पूजा तक ही सीमित रह जाती है, या धर्म के नाम पर अँधविश्वास, जातिवाद और दकियानूसी बातों को बढ़ावा देती है. धर्म को नये आधुनिक राह दिखाने वाले जिसमें प्रकृति संरक्षण और मानव अधिकारों से जोड़ने वाले संदेश हों, कब और कहाँ से आयेंगे? ---यही होता आ रहा है और होता रहेगा- बहुत सुन्दर सार्थक और सामयिक प्रस्तुति !
    latest post जिज्ञासा ! जिज्ञासा !! जिज्ञासा !!!

    ReplyDelete
  9. बहुत सुंदर, कमाल

    ReplyDelete
  10. Nice captures..... Life will come back to normal no doubt but the loss is still too much to forget......

    ReplyDelete
  11. ये लय--सृष्टि---लय
    का खेल तो चलता रहेगा ......
    यही संसार है, प्रकृति है, माया है..
    मानव कर्म से मुख न मोड, अतः-
    मन की शान्ति हेतु,
    मानव ने ही-
    ईश्वर को बनाया है |

    ReplyDelete
  12. बहुत बढ़िया प्रस्तुति ....
    काठमांडू की याद ताज़ी हो गयी ...

    ReplyDelete
  13. आप सब को आप के सन्देशों तथा सराहना के लिए धन्यवाद - thanks to all of you for your comments and compliments

    ReplyDelete

Daily 3 new images from around the world with a brief reflection in English, Hindi and Italian - Thanks in advance for your comments - Grazie in anticipo per i vostri commenti - आप की टिप्पणियों के लिए धन्यवाद

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

Followers